Message # 385646

ग़लती इतनी भी बड़ी नहीं की हमने..
जो नाराज़ हो जाओ उम्रभर के लिए..
माना कि हम तेरे कोई नहीं..
पर तू मेरी सबकुछ ये भी तो किसी से छुपा नहीं.. प्लीज़ मान जाओ..

 
3450
 
734 days
 
Rohan Mahto
BACK TO TOP