Message # 441157

ये दिलबरी, ये नाज़, ये अंदाज़, ये जमाल,

हम अगर तेरी चाह न करें ...तो क्या करे।

 
280
 
278 days
 
Veeshal.joshee
BACK TO TOP