Alcoholics (12 in 1 year | sorting by most liked)

लोगों के बहकावे में आकर कछुए🐢 और खरगोश 🐰में पांच मील की दौड़ लग गई।

तीन मील की दूरी पर जा कर खरगोश ने देखा कि कछुआ बहुत दूर है और उसने सामने के ठेके से एक बोतल ली और पीना शुरू कर दिया..!

दो या तीन पैग पीने के बाद, सामने कछुए को आते हुए देखा।
बोला - दोस्त,आज तू भी ले ।

कछुआ भी बैठ गया और पीते पीते बोतल खत्म हो गई ।

कछुए ने कहा ! तुम मेरे इतने अच्छे दोस्त हो, और मैं तुम्हारे साथ दौड़ने की होड़ के लिए लोगों की बातों में आ गया। तुम्हारे साथ क्या हार , क्या जीत।

*फिर दोनों खुशी खुशी घर चले गए।*

*सीख: -* अपने दोस्तों के साथ किस बात की रेस। ऐसे हर समय हार जीत के पीछे भागते मत रहो। साथ मै बैठो, दो पेग लो और देखो जिंदगी कितनी हसीन है।

Cheers 🥃🥂🍺🥂

 
621
 
294 days
 
V!shu

🍾 Trivia Facts 🍾
इतिहास गवाह है कि आज तक दारू के पैग में... 🥃
.
.
.
.
.
.
.
.
कभी मक्खी नहीं गिरी.....!!!🍺
😅😂😜

 
603
 
329 days
 
Devil_91

*🥃 मुझे शराब से महोब्बत नही है*
*महोब्बत तो उन पलो से है*


*जो शराब के बहाने मैं*
*दोस्तो के साथ बिताता हूँ.* 🥃🍺🍻🥂
Cheers

 
552
 
248 days
 
Vicky10385

अच्छा हुआ , *_प्लास्टिक_* के साथ *_काच_* पे बन्दी नहीं हुई
नहीं तो दारु की दुकान पे *_लोटा_* लेके जाना पढता😂😂😂



मैं पीता नहीं बस दोस्तो की चिन्ता 🍺🍻

 
259
 
87 days
 
akshay parekh

ग़ज़ब की *धूप* है आजकल मगर फिर भी.... दिल किसी का भी *पिघलते* नहीं देखा मैंने...!!
🙂🙂


अर्थात........ कवि कहना चाहता है कि,,,,

*इतनी गर्मी में भी कोई बियर के लिये भी नही पूछ रहा*

🥂🥂🥂🥂😉😉😉😉😋😋😋😋

 
227
 
108 days
 
B P S R

मैं चला शराबखाने जहां कोई गम नहीं है,
जिसे देखनी है जन्नत साथ-साथ आए।

 
139
 
143 days
 
Parveen Unlucky

आज हवामान देख कर ऐसा लग रहा है की बर्फ गिरने की संभावना है
.
.
.
.
.
.
.
.
ग्लास में
😁😁😁

 
125
 
77 days
 
akshay parekh

मैं हमेशा पीने के बाद ये भुल जाता हूँ की मैंने पी रखी है..!!

इसलिए आवश्यकता है,
एक बताने वाले कि जो कहें कि..

.


.


.
"आज आप फिर पीके आ गए".!!
😝😝😝

 
119
 
82 days
 
MUMBHAI !!!

Mere har shoq me nasha hai...
mera har ang usme fasa hai...
Us k bina muje chain nhi...
Use lene k baad body me pain nhi...😉

 
62
 
199 days
 
I_Aasim

some text test

 
7
 
288 days
 
Test Test
LOADING MORE...
BACK TO TOP