Encourage (1988)

तेरी बगिया का हूँ मैं फूल- खिलाए रखना
धूल हूँ चरणो की बस- धूल ही बनाए रखना
धूल भी बन सकु तेरी- मेरी औकात है क्या
बस जैसा हूँ तेरा हूँ- अपना बनाए रखना....

सबका मालिक एक 🖕

ॐ साई राम जी🙏🏾

 
37
 
9 days
 
Sunil

SAI SHRADHA
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
"भाँती भाँती की भाषा हैं,
भाँती भाँती के प्रदेश...
भाँती भाँती के लोग हैं,
भाँती भाँती के भगवान...
मत कर भेद भाव तू,
खून सबका एक...
के गए मेरे साईं जी की
सबका मालिक एक"... 🌹🌹

 
16
 
10 days
 
Sunil

*फिक्र नहीं हमे तो फक्र है*
*गुरू की सेवा ही हमारा फर्ज हैं*
*है खुश नसीब वो गुरू प्रेमी*
*जिनका नाम गुरूजी के दिल में दर्ज है* 🌹🌹

*जय जय गुरू जी*🙏🏻🙏🏻👏🏻

 
26
 
10 days
 
Sunil

!!श्री हरि!!
अध्यात्म जादूगरी नहीं है

 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰

मित्रो! ये बातें सुनकर मुझे बहुत दुःख होता है कि लोग अध्यात्म को मैजिक समझते हैं, जादूगरी समझते हैं। जादूगरी का अर्थ होता है-क्रियाकृत्य। क्रियाकृत्यों के माध्यम से, आवाज के माध्यम से, जीभ की नोंक के माध्यम से, बोले हुए शब्दों के माध्यम से लोग चमत्कार दिखाना चाहते हैं। बेटे! यह बाजीगरी है। जादूगर को अपना व्यक्तित्व बनाने की कोई जरूरत नहीं पड़ती है। उसको बस शब्दों की हेरा-फेरी आनी चाहिए और हाथ की हेरा-फेरी आनी चाहिए। आपको भी हाथ की हेरा-फेरी आती है, नमस्कार करना आता है, मुद्राएँ बनानी आती हैं, हाथ जोड़ना आता है। यह शंख मुद्रा है, यह अमुक मुद्रा है। आपको अगर हाथ-पाँव चलाना आता है, तो आपके लिए यह काफी है कि आपके लिए अध्यात्म जादूगरी है और अगर अध्यात्म जादूगरी नहीं है, तब? तब फिर आपको अपना व्यक्तित्व विकसित करना पड़ेगा। 

मित्रो! वाणी के द्वारा मंत्र बोले जाते हैं। इसको आपको अनुशासित करना चाहिए। वाणी क्या है? वाणी सरस्वती है। बाकी देवी-देवता कहाँ रहते हैं, यह मैं फिर कभी बताऊँगा, आज तो मैं आपको यह बताता हूँ कि सरस्वती का वचन कभी मिथ्या नहीं हो सकता है। सरस्वती वह है, जिसके शब्द सार्थक होकर के रहते हैं। यह देवी कहलाती है, वाणी कहलाती है, वाक कहलाती है। सरस्वती ज्ञान की देवी है। कल्याण की देवी है। सरस्वती जीभ में रहती है। नहीं साहब! जीभ तो माँस की है। हाँ बेटे! है तो माँस की, लेकिन अगर आप उपासना कर लें तो आपकी जीभ साक्षात सरस्वती हो जाएगी। अगर हम कोई उपासना न करें? आप कोई उपासना मत कीजिए। बस, दो उपासनाएँ कर लीजिए। मैं आपसे वायदा करता हूँ और वचन देता हूँ कि आपकी जीभ में से सरस्वती उत्पन्न हो जाएगी और आपके वचन मंत्र हो जाएँगे, अगर आप दो तरीके से जीभ की उपासना कर लें तब। कैसे? एक उपासना के बावत कल मैं आपसे निवेदन कर रहा था और यह कह रहा था कि आपको आहार के बारे में गौर करना चाहिए। आहार की बनावट के बारे में नहीं, आहार के ''बेस'' के बारे में ध्यान देना चाहिए। आहार का बेस-जो आप खाते हैं, उसमें पहनावा भी शामिल है।
🙏🏻🙏🏻🙏🏻ॐ शान्ति🙏🏻🙏🏻🙏🏻

 
14
 
12 days
 
BEAST IS BACK

*तू मूझे संभालता है, ये तेरा उपकार है मेरे बाबा*

*वरना तेरी मेहरबानी के लायक मेरी हस्ती कहाँ,*

*रोज़ गलती करता हू, तू छुपाता है अपनी बरकत से,*

*मै मजबूर अपनी आदत से, तू मशहूर अपनी रेहमत से!*

*तू वैसा ही है जैसा मैं चाहता हूँ..I*
*बस.. मुझे वैसा बना दे जैसा तू चाहता है*

🙏*सुप्रभातं*🙏

 
59
 
12 days
 
Sunil

मेरे दिल की अर्ज़ी तू कर स्वीकार
तू रखना संजो के मेरा घर परिवार
युही बरसे मुझ पर तेरा प्यार
सदैव रहूँगा मैं तेरा शुक्रगुज़ार

*चाहे कोई कुछ भी बोले साईं भगवान है मेरे*
साईं सारे जगत के पालनहार,
प्रेम से बोलो ॐ साईं राम🙏🙏🙏🙏🙏
ॐ साँई राम जी हम सभी पर बाबा साँई राम जी की कृपा हमेशा बरसती रहे 🙏 🙏

 
17
 
13 days
 
Sunil

SAI SHRADHA
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
ज्ञान का दीप जलता रहे,
नाम साईं का चलता रहे।
अपने साईं को भूलो न कभी,
वक्त चाहे बदलता रहे।।
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

 
23
 
17 days
 
Sunil

ज़िन्दगी में मेरी ऐसा मुकाम आ जाए,
जब भी जुबां खोलू सिर्फ तेरा ही नाम आ जाए.. तरसे निगाहे सिर्फ तेरे ही दीदार को,
जिससे भी कहूं *"जय गुरूजी"* वो तेरा ही गुलाम हो जाए...
दिल से बोलो जी...
*"जय गुरूजी"...*
*💞💞जय गुरु जी*🙏🏻👏🏻

 
19
 
21 days
 
Sunil

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
*अाती-जाती सासों से, जब सिमरन सतगुरू का होता है..*
*जन्म-जन्म के पाप हमारे, सतगुरू प्यारा धोता है..*

*फिक्र मत कर बन्दे कलम सतगुरु के हाथ है..*
*लिखने वाले ने लिख दिया तकदीर तेरे साथ है..*
*फिक्र करता है क्यों "*
*फिक्र से होता है क्या "*
*रख सतगुरु पे भरोसा "*
*देख फिर होता है क्या...*

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

 
52
 
27 days
 
Sunil

Work hard, until lamp light of your study table becomes spot light of stage..

 
175
 
30 days
 
Jasmine
LOADING MORE...
BACK TO TOP