No Fit (69)

SAI SHRADHA
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
*"दुःख की घड़ी उसे डरा नंही सकती,*
*कोई ताकत उसे हरा नंही सकती,*
*और जिस पर हो जाये साई तेरी मेहर,*
*फिर ये दुनिया उसे मिटा नहीं सकती...!"*
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

 
0
 
11 hours
 
Sunil

SAI ASHRAYA
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
धन्य वो द्वारका माई, बस गए जहाँ साई,
जल जाता है पाप वहां, बाबा की है धुनी जहाँ।।
बंसी जैसे मोहन की थी, वैसे चिलम साई तेरी है।
साई तेरी उदी माथे लगाने से, बाबा बदली किस्मत मेरी है।।
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

बड़ा विचित्र है भारतीय नारी का प्रेम,
वह विदेशियों की तरह
चौबीसों घंटे नहीं करती....
आई लव यू -आई लव यू का उदघोष
बल्कि
गूँथ कर खिला देती हैं प्रेम
आटे की लोइयों में,
कभी कपड़ों में
नील की तरह छिड़क देती है प्यार
कभी खाने की मेज़ पर इंतज़ार करते हुए
स्नेह के दो बूँद आँखों से निकाल कर
परोस देती है खाली कटोरियों में,
कभी बुखार में
गीली पट्टियां बन कर
बिछ जाती है माथे पर
जानती है वो.....
कि मात्र क्षणिक उन्माद नहीं है प्रेम,
जो ज्वार की तरह चढ़े और भाटे के तरह उतर जाये...
जो पीछे छोड़ जाये रेत ही रेत,
और मरी हुई मछलियाँ,
हाँ उसका प्रेम
ठहरा है, फैला है..... अपनों के जीवन में
गंगा जमुना के दोआब-सा
जहाँ लहराती हैं.....
संस्कृति की फसलें..🌹

 
23
 
4 days
 
Jasmine

*लेकर दो आंसू काश तु श्याम मेरा बन जाये...🍫🍫*

*दुनिया चाहे जो मर्जी जोर लगाये फिर भी तु नजर संग मेरे आये...🙌🏻*

*जय श्री श्याम...✍🏻...💕...🍫*

गैरो ने तो ठुकराया अपने भी बदल गए है
हम साथ चले जिनके वो दूर निकल गए है
साई तेरे करम पे हू तू बख्श या ठुकराए
मुह फेर जिधर देखू मुझे साई नजर आए
साई बाबा नजर आए
साई साई नजर आए

#चाय_पियेंगे?

जब कोई पूछता है "चाय पियेंगे..?"

तो बस नहीं पूछता वो तुमसे
दूध ,चीनी और चायपत्ती
को उबालकर बनी हुई एक कप चाय के लिए।

वो पूछता हैं...
क्या आप बांटना चाहेंगे
कुछ चीनी सी मीठी यादें
कुछ चायपत्ती सी कड़वी
दुःख भरी बातें..?

वो पूछता है..
क्या आप चाहेंगे
बाँटना मुझसे अपने कुछ
अनुभव ,मुझसे कुछ आशाएं
कुछ नयी उम्मीदें..?

उस एक प्याली चाय के
साथ वो बाँटना चाहता हैं..
अपनी जिंदगी के वो पल
तुमसे जो "अनकही" है अब तक
वो दास्ताँ जो "अनसुनी" है अब तक

वो कहना चाहता है..
तुमसे ..तमाम किस्से
जो सुना नहीं पाया अपनों
को कभी..

एक प्याली चाय
के साथ को अपने उन टूटें
और खत्म हुए ख्वाबों को
एक और बार जी लेना
चाहता है।

वो उस गर्म चाय
के प्याली के साथ उठते हुए धुओँ के साथ
कुछ पल को अपनी
सारी फ़िक्र उड़ा देना चाहता है।

वो कर लेना चाहता है
अपने उस एक नजर वाले हुए
प्यार का इजहार,
तो कभी उस शिद्दत से की
गयी मोहब्बत का इकरार..

कभी वो देश की
राजनीतिक स्थिति से
अवगत कराना चाहता है
तुम्हें..
तो कभी बताना चाहता है
धर्म और मंदिरों के
हाल चाल..

इस दो कप चाय के
साथ शायद इतनी बातें
दो अजनबी कर लेते हैं
जितनी कहा सुनी तो
अपनों के बीच भी नहीं हो पाती।

तो बस जब पुछे कोई
अगली बार तुमसे
"चाय पियेंगे..?"

तो हाँ कहकर बाँट लेना उसके साथ
अपनी चीनी सी मीठी यादें
और चायपत्ती सी कड़वी दुखभरी बातें..!!

चाय सिर्फ़ चाय ही नहीं होती...

 
37
 
8 days
 
Jasmine

SAI SHRADHA
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
साँई है जीवन, जीवन शिर्डी के साँई
साँई मेरा जीवन सहारा
साँई है जीवन, जीवन शिर्डी के साँई
तेरे बिना साँई सब है अन्धेरा
पार करो मेरी जीवन नईयाँ
चरण लगा लो मुझे साँई कन्हैया
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻

 
8
 
11 days
 
Sunil

सारी दुनिया पूछती है मुझे,
इस साईं महोब्बत में क्या मिलेगा ?
मैंने कहा अभी तो इबादत शुरू हुई है,
थोडा सा सब्र करो खुद साईं मिल जाएगा।
​।।।...ॐ साईराम...।।।​
🌹🌹 🌹🌹

 
13
 
14 days
 
Sunil

🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
*सांई के जैसा कोई उपकार नही करेगा,*

*तुम्हारी हर बात का कोई एतबार नही करेगा..*

*जब थक जाओगे दुनियाँ के धोखे से*

*आ जाना साई के दरबार में क्योकि मेरे साईजी सा कोई प्यार नही करेगा...!!*
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

 
12
 
15 days
 
Sunil

"बात ये नहीं कि किस के कितने कपड़े खुले हैं ,
बात ये है कि आप के विचार कितने बुरे हैं

स्कर्ट से सजे हैं या बुर्के में ढके हैं,
सब औरत के जिस्म एक ही मिट्टी से बने हैं

कहने को बीवी कहने को बहने हैं,
हर रिश्ते से अलग पर कुछ उस के भी सपने हैं

जो जीता प्यार से तो जन्नत कदमों में है,
जो दिखाया जोर तो महाभारत बनने में हैं

क्यों कहे जमाना कि हर जंग के पीछे औरत का हाथ है,
सच तो ये है कि बड़ी अजीब मर्दों की ये जात है

जो दिखाई अपनी जिद तो द्रौपदी भी बस इक दाव है,
जो आई अपनी इज्जत बचाने पर तो सीता में भी पाप है

ये आज की नहीं सदियों की बात है ,
नशा औरत में नहीं,नशा नीयत में होता है

जो चाहता है सिर्फ जिस्म को वो जानवर होता है
और जो चाहता है रूह को वो वाकई असली मर्द होता है......!!"

 
28
 
18 days
 
Jasmine
LOADING MORE...
BACK TO TOP