Politics (2222 | sorted randomly)

खांग्रेसी एजेंडा पत्रकार रविष पांडे को बाप मानने वाले तीन तरह के लोग हैं।

पहले अत्यंत भोले-भालें लोग हैं जिन्हें लगता है कि ये आम-आदमी के बेहतरी के लिए सरकार से लड़ रहा है न कि सेलेक्टिव एजेंडा के लिए लड़ रहा है। इसमें बहुतेरे शांतिप्रिय समुदाय से हैं।

दूसरे अत्यंत शातिर लोग हैं जिन्हें लगता हैं कि इस आदमी के कुंठित दिमाग के खाद पर अर्बन नक्सलिज्म की फसल उगाई जा सकती है।

तीसरे अत्यंत और भीषणात्मक रूप से चूतिये लोग हैं जिनके पास कोई ठोस वजह नही है, ये बस हर उस आदमी को अपना बाप बना लेते जो उनके समान ही कुंठात्मक रुप से मोदी विरोधी हो।

 
30
 
66 days
 
Mukki

*मैं Race में first आया*

*मैं Race में अकेला दौड़ा था*

#ईस बात का Congress के नये President से कुछ लेना देना.. नहीं....है 😳🤓😎

 
86
 
254 days
 
akshay parekh

हमारे पडोसी हैं गाँव में ......

एक दिन उनके घर की छत में अचानक सीलन आ गयी । इस से पहले की कुछ समझ आता छत टपकने लगी।

फर्श पे पोंछा लगा दिया। पानी फिर टपका । फिर पोंछा लगा दिया। दो चार दिन में छत कई जगह से टपकने लगी। जहां टपक रही थी वहाँ कटोरी रख दी । कटोरी भर गयी तो बाल्टी रख दी।

विशेषज्ञ बुलाये गए । एक बोला जहां से टपक रही वहाँ chewing gum लगा दो। दूसरा बोला पूरी छत पे वाल पेपर चिपका के देख लो। तीसरा बोला पूरा प्लास्टर उखाड़ के नया कर लो । चौथा बोला की 4 नौकरानियां और रख लो पोंछा लगाने के लिए।

सब try किया । न इन तरीकों से पानी रुकना था न रुका । बगल से एक सयाना बूढा जा रहा था। उसने पूछा क्या चिहाड़ मची है भाई ? क्या मसला है।

जी पानी चूता है छत से।

अबे ये तो देखो कि पानी आ कहाँ से रहा है।

बूढ़े ने ऊपर झाँक के देखा।

छत पे रखी टंकी चू रही है भाई । उसे बदल दो। न हो तो उसकी टूटी बंद कर दो। न हो तो Mseal ही लगा दो।

ओए बुड्ढे ....परे हट ..... खबरदार जो टूटी को छुआ।

पवित्र टंकी है । टंकी का कोई दोष नहीं।

सारी गलती छत की है।

पड़ोसियों ने पानी को बरगलाया है। छत ने साजिश की है।

बुड्ढा चुप हो गया । घर के सबलोग फर्श पे पोंछा लगाने में जुट गए।

पवित्र टंकी अब भी छत पे बदस्तूर रखी है। उस से लगातार पानी बह रहा है।

 
29
 
120 days
 
Sudesh K Jain

बीजेपी..... केजरीवाल और कन्हैय्या का कैरियर बना रही है..
और आप कहते हैं कि रोज़गार के नये अवसर नहीं मिल रहे..! 😛😜

 
74
 
894 days
 
mr. carter

दुनिया की सभी संस्थाओं को भारत पर विश्वास है लेकिन विपक्ष को नहीं

 
44
 
28 days
 
Smartest19

अंदर की बात है कि मोदी जी सारा काला धन ले आएं हैं
ओर वो काला धन MLA की खरीदफरोख्त में इस्तेमाल हो रहा है

:- मास्टर माइंड

 
43
 
93 days
 
Shakti_Dada

Comparison Of CM

जयललिता
✔ *अम्मा*
केजरीवाल
✔ *निकम्मा*
😜😂😂😂😂

 
296
 
620 days
 
SPARSH

बाबर और राणा सांगा में भयानक युद्ध चल रहा था ।
बाबर ने युद्ध में पहली बार तोपों का इस्तेमाल किया था । उन दिनों युद्ध केवल दिन में लड़ा जाता था, शाम के समय दोनों तरफ के सैनिक अपने अपने शिविरों
में आराम करते थे । फिर सुबह युद्ध होता था !
लड़ते लड़ते शाम हो चली थी , दोनों तरफ के सैनिक अपने शिविरों में भोजन तैयार कर रहे थे ।
बाबर टहलते हुए अपने शिविर के बाहर खड़ा दुश्मन सेना के कैम्प को देख रहा था तभी उसे राणा सांगा की सेना के शिविरों से कई जगह से धुँआ उठता दिखाई दिया।
बाबर को लगा कि दुश्मन के शिविर में आग लग गई है, उसने तुरंत अपने सेनापति मीर बांकी को बुलाया और पूछा कि देखो दुश्मन के शिविर में आग लग गई है क्या ? शिविर में पचासों जगहों से धुँआ निकल रहा हैं ।
सेनापति ने अपने गुप्तचरों को आदेश दिया -जाओ पता लगाओं कि दुश्मन के सैन्य शिविर से इतनी बड़ी संख्या में इतनी जगहों से धुँओ का गुब्बार क्यों निकल रहा है ?
गुप्तचर कुछ देर बाद लौटे उन्होंने बताया हुजूर दुश्मन सैनिक सब हिन्दू हैं वो एक साथ एक जगह बैठकर खाना नहीं खाते ।सेना में कई जात के सैनिक है जो
एक दूसरे का छुआ नहीं खाते इसलिए सब अपना अपना भोजन अलग अलग बनाते हैं अलग अलग खाते हैं ।एक दूसरे
का छुआ पानी तक नहीं पीते।
यह सुनकर बाबर खूब जोर से हँसा काफी देर हँसने के बाद उसने अपने सेनापति से कहा .मीर बांकी फ़तेह हमारी ही होगी !
ये क्या हमसे लड़ेंगे, जो सेना एक साथ
मिल बैठकर खाना तक नहीं खा सकती, वो एक साथ मिलकर दुश्मन के खिलाफ कैसे लड़ेगी ?
बाबर सही था।
तीन दिनों में राणा सांगा की सेना मार दी गई और बाबर ने मुग़ल शासन की नीव रखी। लेकिन हिन्दू आज भी उतने ही बेवकूफ है जितने पहले थे ?

विषय आज भी चिन्तनीय है !

 
312
 
909 days
 
Aadi.4u^^

मित्रों,
कड़ी मेहनत से BJP ने खीर बनाई थी..🍚
लेकिन ज़मीन पर गिर गई..
अब उसे कुत्ते चाटेंगे...🤔 कर्नाटका

 
64
 
90 days
 
aaakash

JNU is the best university in India..
Kanhaiya is the best leader (president) in JNU..
i stand with #JNU...#Politics

 
13
 
895 days
 
#RMP
LOADING MORE...
BACK TO TOP