Shayari (19372)

क्या कहे तुम्हारा इस दिल पर किस कदर काबू है,
की दिल धक धक करना छोड़ कर, तुम्हारा नाम पुकारता है
💕💕💕

 
8
 
3 hours
 
Almost shayar

रंग *भरते* है फ़िर रंग *बदलते* है लोग...😬

ज़िन्दगी ये *मरजाणे* तेरी ये कैसी *होली* हो गई।

 
14
 
a day
 
बिट्टू

*हमारी आंखों पर भरोसा कीजिए सनम...!!*

*गवाही तो अदालतें मांगा करती हैं......*

 
50
 
2 days
 
Paraskumar Pande

*मैंने यादें उठा के देखी है*

*पहले तुम मेरी हुआ करती थी*

 
35
 
2 days
 
Paraskumar Pande

उससे फासलें बढ़ गए__

और कमबख्त मोहब्बत भी..!!
💕

 
57
 
3 days
 
anika

तुम नफरत का धरना कयामत तक जारी रखो,
मैं प्यार का इस्तीफा जिंदगी भर नहीं दूँगा...!!!!

 
45
 
4 days
 
GOriya

धरती के गम छुपाने के लिए गगन होता है, दिल के गम छुपाने के लिए बदन होता है, मर के भी छुपाने होंगे गम शायद, इसलिए हर लाश पर कफ़न होता है।

 
36
 
5 days
 
Bhanu Pratap

माना चल जाती हैं मुझ पर
चालाकियाँ जिदंगी तेरी..

तेरी होशियारी नही,
यह मासूमियत है मेरी...💞💞💕💕

 
75
 
7 days
 
anika

अजीब सिलसिले है , तेरे मेरे दरमियां

फासले और मोहब्बत दोनों बेइंतहा....

 
130
 
8 days
 
anika

अब खुद को संभालना जरूरी है,
क्योंकि सम्भालने वाले बदल चुके है 💕

 
79
 
9 days
 
Almost shayar
LOADING MORE...
BACK TO TOP