Shayari (3 in 1 day | sorting by most liked)

तुम समझ ना पाओगे कभी मेरी मोहब्बत को शायद ......।।
के मुझे अपनी हसरत कहने की आदत जो नहीं है .....।।

 
47
 
20 hours
 
Abhilekh.......

वो जो बैठ जाते हैं घड़ी दो घड़ी पास मेरे...

सारा आलम हसीन सा लगने लगता है ....

 
26
 
8 hours
 
Parveen Unlucky

जब साँस आख़री आए, और दो लफ़्ज़ कहने की बस मोहलत हो,
एक नाम तुम्हारा लूँ, दूजा नाम मुहब्बत हो...

 
21
 
9 hours
 
Parveen Unlucky
LOADING MORE...
ALL MESSAGES LOADED
BACK TO TOP