Shayari (41 in 1 month | sorting by most liked)

*बड़े महँगे किरदार है ज़िंदगी में, जनाब..,*

*समय समय पर,, सबके भाव बढ़ जाते हैं..*

 
212
 
22 days
 
Paraskumar Pande

ये सर्द हवा,
ये ओस के कतरे,
लगता है
अब दर्द हुआ है जनवरी को
दिसंबर के जाने का।

 
198
 
11 days
 
Neeta Chaand

होंठो पे ......शिक़ायतों का ...क़ाफ़िला है ,

और आँखों में .....गले लगाने की तलब.....💘

 
166
 
23 days
 
Paraskumar Pande

*धागा ख़त्म हो गया था मन्नतो में तुम्हे मांग कर...*

*दिल बांध आये अबकी बार ......*
*तुम्हारे नाम पर...*!!

💗💗

 
166
 
28 days
 
Paraskumar Pande

*​जज्बात वहां ही जाहिर करो जहा उसकी कद्र हो...!!!*

*​बाकी तो आंखो से बहता हुआ आंसु भी,, लोगो को पानी लगता है...!!!*

 
155
 
27 days
 
aaakash

अाअो चलो कुछ बाते करते हेे ,
में यहाँ तुम वहां ,
बिन देखें बिन बोले बिन सुने ,
एक तनहा मुलाकात करते हेे ....❤

 
151
 
21 days
 
Paraskumar Pande

इंतजार इश्क़ की

सबसे ख़ूबसूरत सजा है🍂🍁

 
144
 
25 days
 
Paraskumar Pande

*इंतजार रहता है तुम्हारा......*



*कभी सबर से...और कभी बेसबरी से........*
❣❣❣✍

 
137
 
18 days
 
paglaa

जिन्हें इश्क़ का नशा होता है,
उन्हें जिस्म की तलब नहीं होती 💕

 
137
 
18 days
 
paglaa

*रिहा हो गई ,*
*बाइज्जत वो मेरे कत्ल के इल्जाम मे ...*

*शोख निगाहों को अदालत ने हथियार नही माना !!*

 
134
 
26 days
 
Paraskumar Pande
LOADING MORE...
BACK TO TOP