Shayari (6 in 1 week | sorting by most liked)

वो कह कर चले गये की "कल" से भूल जाना हमे...

हमने भी सालों से "आज" को रोके रखा है...!!

बस एक ही ख्वाहिश है
इस दिल की ...

काश कोई मुझ जैसा
इश्क मुझसे भी करता...

 
64
 
2 days
 
V!shu

‪शादियाँ गुज़ार दी मैंने तेरे इंतज़ार में , काश की कभी ऐसा हो की तुम आओ और वक़्त वही ठहर जाए ❤️‬

 
40
 
4 days
 
Mrjha

Breakup shayri
पत्ता शजर से टूट कर बे वज़न हो गया
.
.
*उड़ने लगा जिधर भी उड़ाने लगी हवा

 
35
 
5 days
 
Ra-one

जब दुनया में गम बट रहा था सबने अपने अपने हीस्से का गम ऊठाया जब मेरी बारी आयी मेंने फेवीस्टीक उठाया जो साला चुटकी में चीपक गया 🤣

 
27
 
4 days
 
Tushar5699

अब जो रिश्तों में बँधा हूँ तो खुला है मुझ पर

कब परिंद उड़ नहीं पाते हैं परों के होते

 
19
 
2 days
 
News Akki
LOADING MORE...
ALL MESSAGES LOADED
BACK TO TOP